हिन्दी फिल्मों में गीत लेखन का इतिहास व गीतकारों की भूमिका

| लेखक – भूपेन्द्र | हिन्दुस्तानी फिल्मों में जब से बोलते चलचित्र का दौर आरम्भ हुआ, तब से पार्श्वगीत फिल्मों के एक अभिन्न अंग बन के उभर आये । सबसे पहली बोलती फिल्म ‘आलम आरा’ जो 1931 में प्रदर्शित हुई, उसमे 7 गाने थे। उसके तुरंत बाद ‘ शिरीं फर्हाद’ आयी जिसमे 42 गाने थे,Continue reading “हिन्दी फिल्मों में गीत लेखन का इतिहास व गीतकारों की भूमिका”